2016年10月9日星期日

तो फिर तू क्यूँ उदास है


तू सशक्त है समर्थ है, तो फिर तू क्यूँ उदास है,
तू गिर ज़रा संभल ज़रा, क्यूँ हो रहा हताश है,

तू रक्त है विरक्त है, तुझी से वक़्त की आस है,
तू जलज है समुद्र तू, बुझा दे जो भी प्यास है,

जो समझे ना तेरी कदर, छेड़ दे तू इक ग़दर,
ये विश्व तेरा सर्वस्व है, अकेला तू फिरे किधर,

पाषाण जो हो राह में, ना पथ पृथक तू करना ,
आँधियों की गति से डर के, ना तू चाह छोड़ना,

हो दूर ग़र अरुण किरण, उसी राह तू ताकना,
जो तन से तू थके अग़र, ना मन से कभी तू हारना ।

8条评论:

感谢您的好评!我一直很期待。