显示带有标签的帖子 短篇故事. 显示所有帖子
显示带有标签的帖子 短篇故事. 显示所有帖子

2014年9月13日,星期六

प्रतीक्षा

हवाई अड्डे पर 下一页ी घोषणा कि प्रतीक्षा में बैठी राधिका कि असली प्रतीक्षा खत्म हुई जब उसे पीछे से शरारत भरी आवाज़ आयी - "तुम्हारा गुड्डा आज भी मेरे पास है |" सामने कान्हा था- उसे बचपन का मित्र | वह मुस्कुराते हुए बोला -"मैने कहा था ना, एक दिन मैं हवाई जहाज़ उड़ाउंगा | "

अप्रत्याशित अनुभव से राधिका कि आँखें नम हो गयी, वह कुछ जवाब ही नहीं दे पायी | अपनी भावना व्यक्त कर पाती उसे 倡议े ही विमान के उड़ान कि घोषणा हो गयी और कान्हा चला गया |


年ों कि आरज़ू सामने हो तो दिल कि कसक मिट जाती है,
眼皮ों में भर आता है समंदर खुशियों का
|
जो शब्दों में बयान हो वो
hास ही क्या,
कुछ hास बयान करने में अनेक अल्फाज़
पड़ जाते है |


--------- कुछ घंटों बाद ---------

विमान 
के उड़ान के दौरान मंद-मंद मुस्कान लिए हुए राधिका के कानों में कान्हा की आवाज़ गूँज रही थी | मानो उसे कानों में किसी ने शहद घोल दिया हो, या जैसे मधुर संगीत बज रहा हो ! 

कोई वादा नहीं फिर भी एक इंतज़ार है,
रिश्तो 
की डोर पर एतबार है |
每个人和िश्ते का कोई नाम नहीं होता,
每个人和िश्ते का अंजाम नहीं होता |


अचानक विमान दुर्घटनाग्रस्त हो गया | सब तहस नहस हो चुका था, सारे यात्री घायल थे | लोगों कि दर्द भरी चीखें हर ओर थी | कहीं खून बह रहा था, कहीं रुदन कि ध्वनि | राधिका बेहोश थी, पैर मलबे में दबे हुए थे | जब आँखें खोली तो उसे अपनी दृष्टि पर विश्वास ना हुआ, कान्हा के मृत शरीर को ले जाया जा रहा था |

下一页े ही पल, आखरी साँस के साथ राधिका ने जवाब दिया - "मैंने भी कहा था ना, मुझे हवाई जहाज से गिरा मत देना.... ये प्रतीक्षा अब कभी खत्म ना होगी" 

他bिना सुने ही चला गया |


--------- 5秒ाल 倡议े 
---------

गर्मी का मौसम था | एक दिन मामा के घर कि सफाई करते हुए कान्हा अचानक बेहोश हो गया | मामी बहुत कोसती थी, कहती, “这个 अनाथ को जब से घर लाये हो हमारी तकलीफें बढ़ गयी है | इतना 减जोर है, कोई काम ठीक से नहीं करता | "मामी उसे दिन में एक बार ही भोजन देती थी |

बेचारा कभी उफ तक नहीं करता | अपने 童年时代े सपने को साकार करने के लिए खूब मन लगा कर पढाई करता था | 

अक्सर ख़ुदा अपने बंदो का इम्तेहान लेता है,
rate率्द दिया हैं तो मरहम भी वो ही देता हैं |


--------- 7秒ाल 倡议े ---------

अपने माता पिता के साथ 佣金र कान्हा शहर में अच्छा जीवन व्यतीत कर रहा था | पढाई में भी होशियार था | दुर्भाग्य से उसे माता पिता कि मृत्यु एक सड़क हादसे में हो गयी | उसे मामा अपनी बहन कि आखरी निशानी, 
कान्हा को अपने घर ले आए थे | उसे बहुत प्यार देते | परन्तु मामी उनके इस निर्णय से अत्यन्त हर्षित नी |

--------- 2秒ाल 倡议े ---------

कान्हा कि जिंदगी में 年ों बाद ख़ुशियाँ लौटी थी | मामा भी बहुत प्रसन्न थे, उनका भांजा विमान-चालक (पायलट) जो बन चुका था |

उसे साथ एक विश्वास था - अपने माता पिता के आशीर्वाद का, अपने मामा के प्रेम का और अपनी 童年时代ि दोस्त राधिका कि मित्रता का |

ज़िंदगानी हसीन हो जाती है,加德िल से फरियाद करो,
हैं रात तो सुबह का इंतज़ार करो,
वक्त और नसीब पर एतबार करो,
उम्मीद का दीया रौशन लगातार करो |


कान्हा ने हर संभव प्रयत्न किया कि वह राधिका को ये शुभ सूचना दे सके, परन्तु वह असफल रहा | आठ साल से उन दोनो कि बात ना हो पायी थी | गांव में सूखा पड़ने के कारण राधिका का परिवार दूसरे गांव जा कर रहने लगा था | इसलिए उनसे संपर्क नहीं हो पाया |

 --------- का दिन ---------

राधिका का भाई विदेश में रहता था | रक्षाबंधन पर अपनी बहन से मिलने कि इच्छा से उसने लिए हवाई जहाज़ के टिकट भेजे थे | 


倡议ी बार शहर आयी सहमी-
सी राधिका हवाई अड्डे पहुँची | वहां की गतिविधियों की जानकारी ना होने के कारण पास बैठे एक यात्री से बात कर रही थी | उसी नजरें कुछ ढूँढ रही थी, मानो उसे आभास हो गया हो के उसी प्रतीक्षा अब खत्म होने वाली हैं |

 --------- 10秒ाल 倡议े ---------

आसमान में उड़ते हुए हवाई जहाज़ को देखते हुए वो बोला - "एक दिन मै हवाई जहाज उड़ाउंगा" | 更改े में राधिका चिढ़ाते हुए बोली, मुझे गिरा मत देना अपने हवाई जहाज़ से! "

नदी किनारे कयी पहर दोनों साथ बैठे रहते | खूब खेलते, ढेर सारी बातें करते | ना जाने इतनी बातें कहां से आती उनके पास | साथ होते तो वक्त का होश ही नहीं रहता |

राधा रानी और श्री कृष्ण कि ही 原来的ाधिका बारह वर्ष की, और कान्हा ग्यारह का, राधिका का रंग गोरा और कान्हा का साँवला, राधिका भोली और कान्हा नटखट | 


वो मासूम बचपन,
वो नटखट शरारत,
वो मीठी नोक झोंक,
वो रूठना मानना,
वो गुड्डे गुड़ियों का खेल,
वो भोर कि रौशनी,
वो साँझ कि हवाएँ,
वो चाँदनी रात में तारे गिनना,
वो गिनती भूल जाना,
काश हमेशा साथ निभाता,
वो मासूम बचपन |



下一页ी शाम, मध्यम कद काठी का वो अबोध बालक साइकिल के पहिये को एक लकड़ी से घुमाता हुआ अपने पिताजी के साथ राधिका के घर पहुँचा | राधिका कि कजरारी आँखें और मोरपंख-सी पलकें उस दिन भीग गयीं जब उसे ज्ञात हुआ के उसा परम मित्र और उसा परिवार शहर जा रहे हैं | कान्हा के पिताजी का तबादला हो गया था | रुआंसा चेहरा लिए वह सब सुनती रही | 

गांव से निकलते वक्त कान्हा को राधिका ने अपना प्रिय मिट्‍टी का गुड्डा तोहफे में दिया | अक्सर उसे ले कर दोनों में मीठी तकरार होती थी | दबी आवाज़ में बोली, “这个े सदा साथ रखना “ |

"मैं तुमसे मिलने कि प्रतीक्षा करूँगी |"इ가ना कहते हुए वो दौड़ कर अपने घर कि ओर गयी और किवाड़ बंद कर लिया | कान्हा ने तेज़ आवाज़ में उत्तर दिया - "मैं भी...." | 他bिना सुने ही चली गयी |

छोटी-सी आयु में उन्हे कहां ज्ञात था - "राधा और कृष्ण का मिलन भी कभी हुआ हैं भला ! "

2014年6月15日,星期日

ख्वाबों का शहर

मँखों से जब अपने ख्वाबों को पूरा करने मैं अपने घर से दूर चलने लगा, वो सड़क बड़ी छोटी लगने लगी, ऐसा लगा काश वो सड़क खत्म ही ना हो. अपने साथ यादों का कारवाँ ले के चला था मैं. यूँ लगा उन सब यादों कि जुदाई सही ना जायेगी और घर के सामने कि वो सड़क लंबी हो जायेगी.

मेरे घर के हर कोने से मेरी अनेकों यादें जुड़ी थीं. चलते वक्त मन को बहलाने के लिए माँ कि बात याद आ गयी. उनने चिढ़ाते हुए कहा था की जहां मै जा रहा हूँ वहा इससे भी बड़ा घर होगा. 下一页े ही पल मन ने कहा - घर दीवारों से नहीं उसमें रह रहे लोगो से बनता है.

मनमें भारीपन लिए पहुँच गया अपने ख्वाबों के शहर, उस सुंदर आलीशान घर के आगे मेरा अपना घर छोटा दीख पड़ता था,  फिर सोचा माँ जान कर बड़ी खुश होंगी!

अनजान नगरी में हर किसी के साथ कोई ना कोई था, आपस में हँसते-बोलते रहते और मै अकेला उन्हें तांकता रहता.

图片

भीड़ में मेरी नजर दो दोस्तों पर पड़ी. उनका वो मासूम-सा तकरार और 下一页े ही लम्हें में ढेर सारा दुलार, मानो एक दुसरे के साथ है तो दुनिया से कोई सरोकार ही नहीं. एक तरफ़ उन्हें देख कर खुशी हुई और फिर मेरे सबसे ख़ास दोस्त का ख्याल कर के दुःख.

कभी लगता था यहाँ से भाग निकलूँ, किंतु मेरे ख्वाब मुझे पीछे खींच लेते थे. उस तन्हाई के आलम में ख़ुद ही को समझा लिया करता था. दिन गुजरते गए. एक दिन माँ का ख़त आया, उनके जन्मदिन पर एक दिन के लिए घर बुलाया था. फिर क्या था, एक पंछी कि तरह उड़ चला अपने आशियने में. मेरे शहर कि गलियों कि वो महक, घर में घुसते ही माँ कि प्यारी-सी मुस्कान, पिताजी का दुलार और बहन का शरारत भरा झगड़ा - 'भैया, तुम खाली हाथ तो नहीं आ गए ना'! ऐसा लगा ख़ुद को फिर से पा लिया. जन्मदिन मनाने के बाद अपने ख़ास दोस्त से मिलने गया. खूब बातेंं कर अपना मन हलका किया.

हर्षित मन के साथ लौट आया अपने ख्वाबों के शहर, इस बार दुगने उत्साह के साथ!

मोह पाश से इंसान कभी नहीं छूट सकता, मगर चलते रहने का नाम ही ज़िंदगी है ना!

2014年3月30日,星期日

结束

(短篇小说- work of fiction)

您opened your eyes and discovered something - A peaceful place, white clouds all around; a glorious white 光线无处不在;都朦胧 someone 身穿白色衣服的人无处出现。

通往天堂

"您were on your way home and you died. And 日 at's when you met me."

“什么!我在哪里?我不明白.....”

"您met a fatal accident, on your way home, a truck skid and 日 en 日 e car accident happened. They tried to save you, all in vain."

您exclaimed, "I....I died! Where is my wife? My children, are 日 ey fine? Who will take care of 日 em? I want to see 日 em."

“他们很快就会好起来的。你的孩子会永远记住你的。你的妻子会哭,但会秘密地放心。但是,你的婚姻并不顺利。”

“哦。那么现在发生了什么,我会去地狱,天堂还是什么?”

"Neither. 您will reincarnate."

“轮回。!所以,印度教徒是对的。”

“所有宗教都是对的,我的儿子。”

“那是什么意思呢?我将从婴儿开始,一片空白。我的一生都将消失。”

"Yes, you are nothing but a magnificent soul. 您will be born as a Chinese girl to a farmer in 592 A.D."

"592 A.D., but 日 at has already passed. 您will send me to 日 e past! What if I meet my future self 日 en."

"Its only you who is born and dies again. 您have reincarnated numerous times. In 日 is universe 日 ere are just you and me. 您are my child, and I, your father."

“等待.. You  意思是我每个人,其他人都是我。我是亚伯拉罕·林肯...我是希特勒...我是阿克巴..我是特蕾莎修女..路边的乞g,我是....我是耶稣..拉姆...还有。 ....“

“现在你明白了,我的孩子。”

“每当你伤害某个人时,你都在伤害自己。你所做的每一个善举,都对你自己做了。任何人曾经经历过的每一个快乐和悲伤的时刻都是或将会经历的。”

"您mean I am 神."

"No, not now. 您are a fetus, still growing, getting mature."

“我现在正在送你去。”

 

 

 

2014年3月22日,星期六

迷雾中的某个地方


她住在奥克兰;安娜,20岁中期的胖女孩’s的脸颊凹陷,卷发和猫眼很有天赋。她以可爱的笑容和漂亮的脸蛋而闻名。她内心深处隐藏着深深的悲伤。她是一个孤儿,在11岁时失去父母,并由她的祖父抚养长大,祖父也于一年前去世。

在工作累了一天之后,现在在她的豪华公寓里,安娜独自一人吃晚餐,然后上床睡觉。十点半。躺在床上,由于无数想法困扰着她,她感到睡眠不足。她抱着她最喜欢的洋娃娃和她的长期同伴,她叫多莉。她看着相框,打开和关闭床旁的台灯。 挂在前墙上。这张照片是在她11岁时拍摄的 她和父母外出度假的生日,她的母亲–一个瘦小的女人,有着棕色的蓬乱的头发,穿着漂亮的白色礼服,站在她父亲的旁边。她的父亲是个高大而英俊的​​男人,双颊凹陷。她从他那里继承了她的! 在照片中,她正站在多亲的父母中间,手里拿着多莉。她回忆说,她的祖父经常告诉她有关父母的真爱的故事。

那天晚上回到家时,家庭发生的改变生活的事件的闪光,很快掩盖了这个荒谬的想法。她一直想知道,她是那场惨案中唯一幸免于难的人,这是命运还是命运。

眼泪滚落,脸颊变粉红色,很快就睡着了。

第二天早上,她穿着漂亮的粉红色波尔卡圆点连衣裙准备上班。她上午9:20乘公共汽车去了工作场所。

和往常一样,她在9:45到达办公室。伊莎贝拉是过去三年来最亲密的朋友,她打电话给她说她正在咖啡馆里等她。

安娜(Anna)叫贝拉(Bella)是个又瘦又高的年轻女孩,不像安娜(Anna)那样漂亮,肤色暗淡,头发稀疏,一直延伸到她的腰部。她和安娜一方面有着很多相似之处,另一方面却有着明显的差异。与安娜不同,伊莎贝拉的朋友有限。伊莎贝拉(Isabella)与父母,祖父母和弟弟一起住在小镇。她属于一个中产阶级家庭,他们的生活资源有限。

She said, with an alternate appearance of irritation and smile on her face, "Bella, I bet, you'll never 更改. 您have such a weak memory!"
伊莎贝拉回答,隐藏了笑声,“我又犯错了吗?“

安娜’她的脸下垂,她说,“No you didn’t. Let’回去,我今天要做很多工作。”恢复感官,她继续欢呼,“你今晚做什么?去商场买新电影怎么样?”

“Sorry 安娜, I have to take my grandmother to 日 e Doctor today. She isn’恢复良好。我们可以改天计划电影。让我们重新开始工作。无论如何,今天没有什么特别的!”

In a low tone, 安娜 replied, “你是对的。我们可以改天再出去。”

晚上五点。安娜在往常的时间已经回家了。她坐5:10的公共汽车,在5:35到达家,换了衣服。她弹奏轻柔的音乐,坐在父母面前’照片。她今天很不高兴。

那天是她多年前失去父母的日子,也是她的生日。

不久之后,她的电话响了。这是来自贝拉的短信。它读– “需要您的帮助,尽快回家。”安娜担心阅读此书。她试图回电,但不能’无法到达她。她不假思索地离开了伊莎贝拉’在镇上的房子。晚上六点三十分。她在晚上7点左右到达那里。她在整个运输过程中都尝试向贝拉打电话,但是’跟她说话。这增加了她的焦虑感。

当安娜到达伊莎贝拉面前时’的房子,摇摇欲坠的小屋,黄昏的黑暗使她难以看见入口。当她冲进去时,她不小心撞到了伊莎贝拉’的宠物狗。她回想起伊莎贝拉(Isabella)告诉她的宠物的名字是Rusty。 Rusty开始对她咆哮。这增加了拖延。片刻之后,她看到了伊莎贝拉’的祖父,一个弯下腰的老人,头上几乎没有多少头发,走出屋子,对他打了个Rusty,并指示Anna到入口。她偷窥了进去,门已经打开了。那栋小房子的大厅的灯熄灭了。吓了一跳的安娜转身去看爷爷和鲁斯蒂,但没能’t find 日 em 日 ere.

她惊慌失措,担心自己亲爱的朋友。在她听到几个人唱生日歌之后不久,“祝你生日快乐,亲爱的安娜,生日快乐…”然后灯亮了是伊莎贝拉’房间里的家人–她的母亲,父亲,兄弟,奶奶,爷爷和Rusty在一个角落!她不能’在任何地方都找不到贝拉。她为这一惊喜感到高兴,但对让她整天等待感到不满。一个简单的木桌上放着一个美味的生日蛋糕。她很高兴看到整个家庭都受到了坦率的欢迎。她已经错过了很多年了。她从她可爱的朋友家人那里得到的关爱充斥着她父母的缺席和孤独。

一个念头突然袭击了她,贝拉无处可见。她问伊莎贝拉’的母亲关于她。她的母亲把安娜带到了贝拉躺在的附近房间,感到很兴奋。安娜震惊地看到她的贝拉处于这种状态,她的眼睛充满了泪水。伊莎贝拉’的母亲向安娜讲述,她的女儿在晚上患有哮喘病,尽管她非常想为自己的密友庆祝特殊的日子,并愿意为她承担这种病。

安娜抱着她,哭了起来。她没有家庭,但贝拉有。她很富有,贝拉很穷。她很漂亮,贝拉不是’t。她让每个人都微笑,但内心深处不高兴。贝拉身体不好,但有带回她朋友微笑的冲动。安娜抱着她,意识到正是他们之间的差异才使他们之间的联系变得特别,没有什么叫做不幸,而是您解释发生的事情的方式。